80 पर आंसू मत बहाएं, अभी 100 रुपये तक पहुंचेगा पेट्रोल! यहां समझें गणित

#newsyuva
80 पर आंसू मत बहाएं, अभी 100 रुपये तक पहुंचेगा पेट्रोल! यहां समझें गणित

क्रूड ऑयल क्षेत्र में वैश्विक स्तर के जानकारों का दावा है कि बहुत जल्द क्रूड ऑयल 100 डॉलर प्रति बैरल के पार भी निकल सकता है. ऐसे में क्या इस बात के लिए तैयार रहने की जरूरत है कि बहुत जल्द देश में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर के स्तर पर पहुंच जाएगी.

ग्लोबल मार्केट में क्रूड ऑयल के लिए साल 2012 से 2017 तक का सफर देश की राजनीति के लिए गेमचेंजर साबित हुआ है. जहां पिछली कांग्रेस सरकार की चुनौतियों को ग्लोबल क्रूड ऑयल की कीमतों ने इतना बढ़ा दिया कि 2014 में महंगाई के मुद्दे पर सरकार को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा. वहीं 2014 में चुनाव के नतीजों आते ही केन्द्र में बनी नई बीजेपी सरकार के लिए ग्लोबल क्रूड ऑयल की कीमतें वरदान साबित हुई. इस दौरान हुए उतार-चढ़ाव के बीच जहां ग्लोबल मार्केट में क्रूड ऑयल की कीमत 125 डॉलर प्रति बैरल से लेकर 30 डॉलर प्रति बैरल तक लुढ़की, वहीं देश में पेट्रोल की कीमत 76 रुपये से 56 रुपये प्रति लीटर तक गई. अब एक बार फिर ग्लोबल मार्केट में क्रूड की कीमतों में सुधार देखने को मिल रहा है.

गेमचेंजर: मनमोहन की पटखनी और मोदी का वरदान

जनवरी 2012 में मनमोहन सिंह सरकार के कार्यकाल के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल 125 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई और 2014 में हुए आम चुनावों तक यह कीमत लगातार 100 डॉलर प्रति बैरल पर बनी रही. अप्रैल 2014 में चुनाव हुए और क्रूड की कीमतों में फिसलन की भी शुरुआत हुई. चुनाव के नतीजे आते ही मई 2014 में शुरू हुई यह फिसलन दिसंबर 2015 तक क्रूड की कीमत को 100 डॉलर प्रति बैरल से गिराकर 50 डॉलर प्रति बैरल पर ले आई. यह फिसलन यहीं नहीं खत्म होती. जनवरी 2016 तक क्रूड ऑयल की कीमतें गिरकर अपने अबतक के न्यूनतम स्तर 30 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गई. गौरतलब है कि कच्चे तेल की कीमतें केन्द्र सरकार के खजाने से खर्च का सबसे बड़ा और सबसे अहम खर्च है. यहां बचा हुआ एक-एक पैसा सरकार को अपनी आर्थिक-सामाजिक नीतियों को आगे बढ़ाने के काम आता है.

बीते 3 साल के उतार-चढ़ाव में पेट्रोल की कीमत

देश में पेट्रोल की कीमत निर्धारित करने का नियम बदल चुका है. जहां पहले प्रति महीने इंपोर्ट कॉस्ट के आंकलन के साथ टैक्स जोड़कर प्रति दो माह पर पेट्रोल की कीमत निर्धारित की जाती थी. इसके बाद इस फॉर्मूले पर पेट्रोल की कीमत प्रति माह और फिर प्रति सप्ताह निर्धारित की जाने लगी. लेकिन बीते दो महीने से ग्लोबल मार्केट में क्रूड ऑयल के प्रति दिन उतार-चढ़ाव और देश में टैक्स के आंकलन से प्रति दिन पेट्रोल की कीमत निर्धारित की जाती है. लिहाजा इन तीन साल के दौरान क्रूड की कीमतों में भारी फेरबदल से पेट्रोल की कीमत में भी उतार-चढ़ाव का सिलसिला बना रहा है.

Leave a Reply