माल्या के केस से नीरव का प्रत्यर्पण आसान होगा लेकिन उसने ब्रिटेन में शरण मांगी तो देरी होगी

  • लीगल फर्म जईवाला एंड कंपनी के फाउंडर ने बताए कानूनी पहलू
  • 13700 करोड़ रु के पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव मोदी लंदन में रह रहा
  • लंदन की अदालत, वहां की सरकार माल्या का प्रत्यर्पण का मंजूर कर चुकी  

लंदन. विजय माल्या के प्रत्यर्पण की मंजूरी मिलने से भारत के लिए नीरव मोदी का प्रत्यर्पण भी आसान हो जाएगा। ऐसे मामलों की एक्सपर्ट लंदन की लीगल फर्म जईवाला एंड कंपनी के फाउंडर सरोश जईवाला का ऐसा कहना है। लेकिन, नीरव ने ब्रिटेन में शरण लेने का आवेदन किया तो प्रत्यर्पण की प्रक्रिया में देरी होगी।

भारत को ब्रिटेन के गृह विभाग को पत्र लिखना चाहिए: जईवाला

  1. ऐसा हुआ तो नीरव के प्रत्यर्पण की कार्रवाई तब तक शुरू होने के आसार नहीं हैं जब तक कि शरण मांगने का आवेदन नामंजूर नहीं हो जाता। जईवाला का कहना है कि भारत सरकार को ब्रिटेन के गृह विभाग को पत्र लिखकर इस बात के तथ्य पेश करने चाहिए कि नीरव को शरण क्यों नहीं दी जानी चाहिए।
  2. नीरव के शरण मांगने का आवेदन खारिज होने के बाद लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में उसी तरह प्रक्रिया शुरू होगी जैसे विजय माल्या के मामले में हुई थी। सबसे पहले नीरव को हिरासत में लेने का आदेश जारी होगा। उसके बाद वो जमानत की अर्जी दाखिल करेगा। उसके बाद प्रत्यर्पण पर सुनवाई शुरू होगी।
  3. कोर्ट नीरव के प्रत्यर्पण की मंजूरी देगा तो यूके के गृह सचिव की मंजूरी भी जरूरी होगी। जईवाला के मुताबिक अगर नीरव मोदी ने किसी यूरोपीय देश या फिर कोई और अंतरराष्ट्रीय नागरिकता ले रखी होगी तो उसके प्रत्यर्पण का मामला जटिल हो सकता है।
  4. 13700 करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव मोदी फिलहाल लंदन में रह रहा है। नीरव वहां हीरे का बिजनेस कर रहा है। पिछले हफ्ते उसका एक वीडियो सामने आया था।

Leave a Reply