बारामूला-उधमपुर हाईवे पर 31 मई तक हफ्ते में 2 दिन आम नागरिकों के वाहनों का प्रवेश बंद रहेगा: केंद्र

  • पुलवामा हमले के बाद सरकार का फैसला, ताकि सुरक्षाबलों के वाहनों को न हो खतरा
  • हफ्ते में दो दिन सुबह 4 बजे से शाम 5 बजे तक इस हाईवे से सिर्फ सुरक्षाबलों के वाहन गुजरेंगे
  • उमर अब्दुल्ला ने कहा- यह बताता है कि मोदी राज्य की आंतरिक सुरक्षा कायम रखने में नाकाम रहे

जम्मू. सरकार ने आदेश दिया है कि बारामूला से उधमपुर जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग (नेशनल हाईवे) पर 31 मई तक हफ्ते में दो दिन सिविलियन यातायात बंद रहेगा। एक अफसर के मुताबिक- चुनाव के मद्देनजर सुरक्षाबलों को एक जगह से दूसरी जगह भेजा जाएगा। लिहाजा हम काफिले पर फिदायीन हमले की संभावना को कम करना चाहते हैं। फैसले को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि जम्मू-श्रीनगर हाईवे को सिविलियंस के लिए बंद करना बताता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य की आंतरिक सुरक्षा के प्रबंधन में नाकाम रहे।

दो दिन में 13-13 घंटे बंद रहेगी जवाहर सुरंग 

  1. नोटिफिकेशन में यह भी कहा गया कि श्रीनगर, काजीगुंड, जवाहर सुरंग, बनिहाल और रामबन होकर जाने वाले हाईवे पर सुबह 4 बजे से शाम 5 बजे तक सिविलियंस का प्रवेश नहीं हो सकेगा।
  2. नोटिफिकेशन के मुताबिक- किसी आपात स्थिति में सिविलियन वाहन के गुजरने की जरूरत होने पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी कर्फ्यू के दौरान नागरिक यातायात के प्रावधानों के अनुरूप उचित निर्णय लेंगे।
  3. उमर ने ट्वीट किया, “मोदी सरकार ने एक और कारनामा किया। पहली बार राज्य में विधानसभा चुनावों में इतनी देरी हो रही है। वहीं बीते 30 साल में कभी नहीं देखा गया कि नेशनल हाईवे को सिविलियंस के लिए बंद किया गया हो। सरकार कश्मीर की आंतरिक सुरक्षा मैनेज ही नहीं कर पा रही।”
  4. उमर ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “हाईवे बंद करने से मरीज अस्पताल, छात्र स्कूल और कर्मचारी दफ्तर नहीं पहुंच पाएंगे। सुरक्षाबलों की रक्षा करने का यह तरीका गैर-दोस्ताना है।”
  5. 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर फिदायीन हमला हो गया था। इसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद राजनाथ सिंह ने कहा था कि अर्धसैनिक बलों के काफिले के गुजरते वक्त सिविलियन ट्रैफिक बंद रखा जाएगा। 30 मार्च को भी एक बड़ा हादसा होने से बच गया था। सुरक्षाबलों के ट्रक से टकराने के बाद एक कार में धमाका हो गया था। हालांकि इसमें किसी भी तरह के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ था।

Leave a Reply