भद्दी टिप्पणी पर आजम ने कहा- अगर दोषी पाया गया तो चुनाव नहीं लड़ूंगा; एफआईआर दर्ज

  • माना जा रहा है कि आजम खान ने रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा पर भद्दी टिप्पणी की
  • आजम ने सफाई देते हुए कहा- मैंने किसी का नाम लेकर बेइज्जती नहीं की, यह साबित हो जाए तो चुनाव नहीं लड़ूंगा
  • सुषमा स्वराज ने मुलायम से कहा- भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत कीजिए  

रामपुर. सपा नेता आजम खान ने विवादास्पद बयान दिया है। माना जा रहा है कि उनका इशारा अभिनेत्री और रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा की तरफ था। हालांकि बाद में आजम ने सफाई देते हुए कहा कि अगर मैं दोषी पाया गया तो चुनाव नहीं लड़ूंगा। मैंने किसी का नाम नहीं लिया। बयान को लेकर आजम पर केस दर्ज कर लिया गया है। आजम के बयान पर सुषमा स्वराज ने भी मुलायम सिंह से कार्रवाई करने की अपील की है।

‘जिसकी उंगली पकड़कर हम रामपुर लाए’

  1. आजम ने रविवार को रामपुर में कहा, “मैं सवाल करता हूं कि क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी। 10 बरस जिसने रामपुर के लोगों का लहू पिया, जिसकी उंगली पकड़कर हम रामपुर लेकर आए। रामपुर की गलियां और सड़कों की पहचान कराई। उसके शरीर से किसी का कंधा नहीं लगने दिया, आप गवाही दोगे। छूने नहीं दिया, गंदी बात नहीं करने दी। आपने 10 साल अपना प्रतिनिधित्व कराया। लेकिन आप और मुझमें क्या फर्क है। रामपुर वालो, उत्तरप्रदेश और हिंदुस्तान वालो, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए, मैं 17 दिन में पहचान गया। उनका…खाकी है।”
  2. सोमवार को सफाई में कहा, “किसी भी आदमी को पहचानने में वक्त लगता है। मैंने यह बात एक आदमी के संदर्भ में कही थी। एक बार उसने कहा था कि वह अपने साथ 150 राइफल लेकर आया। उसने कहा कि अगर मुझे सामने देखा तो गोली मार देगा। मेरे नेताओं ने भी गलती की। अब यह पता चला है कि वह संघ का पैंट पहने हुए था।”
  3. सपा के पूर्व मंत्री ने यह भी कहा, “मैं रामपुर से 9 बार विधायक रह चुका हूं। उत्तरप्रदेश सरकार में मंत्री भी था। मैं जानता हूं कि क्या बोलना है। अगर कोई यह साबित कर दे कि मैंने किसी का नाम लेकर उसकी बेइज्जती की तो चुनाव से अपना नाम वापस ले लूंगा। मैं मीडिया की भूमिका को लेकर भी निराश हूं। न मैं मीडिया जैसा हूं और न ही मीडिया मेरे जैसा है। वे देश को नुकसान पहुंचा रहे हैं।”
  4. आजम के बयान को लेकर सुषमा स्वराज ने मुलायम सिंह यादव से कार्रवाई करने की अपील की। सुषमा ने ट्वीट किया, “मुलायम भाई – आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीर हरण हो रहा हैं। आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिये।”
  5. जयाप्रदा 2004 और 2009 में रामपुर लोकसभा सीट से सपा के टिकट पर सांसद चुनी गई थीं। फरवरी में ही में उन्होंने भाजपा ज्वाइन की है। पार्टी ने उन्हें रामपुर से ही टिकट दिया है।

Leave a Reply