चुनावी मौसम में 21 दिन की फरलो पर तिहाड़ से बाहर आए अजय, जजपा को मिलेगा सीधे फायदा

  • 16 को कर सकते हैं उम्मीदवारों की घोषणा, जननायक जनता पार्टी के स्टार प्रचारक हैं अभय चौटाला

नई दिल्ली। शिक्षक भर्ती घोटाले में 10 साल की सजा काट रहे अजय सिंह चौटाला लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सोमवार को 21 दिन की फरलो पर तिहाड़ जेल से बाहर आ गए। चुनावी मौसम में उनका जेल से बाहर आना सीधे-सीधे जजपा को फायदा पहुंचाएगा। अजय चौटाला 16 अप्रैल को अपनी पार्टी के लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा कर सकते हैं, क्योंकि उनकी पार्टी ने लगभग नाम तय कर लिए हैं, सिर्फ उन्हीं के बाहर आने का इंतजार था। 

जजपा के स्टार प्रचारक हैं अजय चौटाला

  1. जननायक जनता पार्टी ने अजय चौटाला को अपना स्टार प्रचारक बनाया है। वे 5 मई तक बाहर रहेंगे, ऐसे में वे पार्टी के लिए दिन-रात प्रचार करते नजर आएंगे। जींद उपचुनाव के दौरान भी अजय चौटाला पैरोल पर बाहर आए थे और उन्होंने दिग्विजय चौटाला के लिए प्रचार किया था। उनके प्रचार का काफी असर भी पड़ा था, तभी उस चुनाव में इनेलो और बसपा गठबंधन पांचवे स्थान पर रहा था।  
     
  2. अजय के बाहर आने से जजपा के वोट बैंक पर असर पड़ेगा। इनेलो में रहने के दौरान अजय चौटाला की पार्टी कार्यकर्ताओं में अच्छी पैठ थी, इनेलो से निष्कासन के बाद उन्होंने बहुत से पुराने कार्यकर्ताओं को जजपा से जोड़ा। अपनी उसी पैठ का इस्तेमाल करते हुए वे लोकसभा चुनाव में मतदाताओं को रिझाने का प्रयास करेंगे। जजपा और आप 7-3 के फॉर्मूले पर लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं।
     
  3. चौटाला की पैरोल पर जजपा के सहयोगी दल आप ने लगा रखी है अटकल

    अजय चौटाला के साथ 10 साल की सजा काट रहे उनके पिता ओमप्रकाश चौटाला भी लोकसभा चुनाव के दौरान पैरोल पर बाहर आना चाहते थे। उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। इस याचिका का दिल्ली सरकार ने कड़ा विरोध किया। उन्होंने कहा कि चौटाला की याचिका पैरोल पाने के उचित आधार को पूरा नहीं करती है और दिल्ली व हरियाणा में होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए उन्हें पैरोल नहीं दी जानी चाहिए।
     

  4. ओम प्रकाश चौटाला बड़े विवादों में रहे हैं और यह विवाद जारी रहेंगे। पारिवारिक विवाद खत्म नहीं होने वाले हैं और इस तरह की याचिकाएं आती रहेंगी। राहुल मेहरा ने कहा कि चौटाला को भ्रष्टाचार के मामले में सजा सुनाई गई है और उन्हें इसे भुगतना होगा। ओपी चौटाला के बेटे चुनाव में व्यस्त हैं, आखिर वह किस तरह के विवाद का निपटारा करेंगे? उनकी पत्नी बुजुर्ग एवं बीमार हैं और उनकी देखभाल परिवार के 10 सदस्य कर रहे हैं। ये लोग फाइव स्टार अस्पताल की सुविधाएं ले रहे हैं, जोकि कोर्ट द्वारा दी गई आजादी का दुरुपयोग है।

Leave a Reply