स्पीकर ऑन है… गलत संदेश दिया दिग्विजय ने, वैसे इंदौर के टिकट को नेताओं ने सीरियसली लिया ही नहीं : सज्जन

  • मोबाइल का स्पीकर ऑन कर की थी सीएम से कैंडिटेट के लिए बात
  • मुख्यमंत्री कमलनाथ और पार्टी संगठन तक पहुंचा मामला

इंदौर . यदा-कदा अपने बयानों से कांग्रेस की किरकिरी करवाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बोल से एक बार फिर बतंगड़ बन गया। बतंगड़ बाहर नहीं, पार्टी में ही… अपनों के बीच। मंगलवार को एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री कमलनाथ से मोबाइल का स्पीकर ऑन कर लोकसभा प्रत्याशी के लिए शहर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष विनय बाकलीवाल को लेकर की गई चर्चा पर दिग्विजय सिंह कांग्रेस नेताओं के निशाने पर आ गए हैं।

अब इसका विरोध भी ऐसा कि शहर के नेता तक बोल पड़े कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था। वहीं, यह मामला मुख्यमंत्री और पार्टी संगठन तक पहुंच गया है। पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने कहा कि एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता के नाते दिग्विजय सिंह को ऐसा नहीं करना था। ऐसा करने से संदेश गलत जाता है। वैसे भी लोकसभा चुनाव के टिकट के लिए नियम और गाइडलाइन है। सभी वरिष्ठ नेताओं के समन्वय से टिकट तय होता है।

हालांकि  इंदौर के टिकट को नेताओं ने सीरियस लिया ही नहीं। अब परिस्थिति काफी बदली हुई है। यहां से तीन मंत्री हैं। कांग्रेस की सरकार है। इससे अच्छा मौका नहीं है लोकसभा चुनाव जीतने का। लोकसभा स्पीकर और सांसद सुमित्रा महाजन का विरोध सत्यनारायण सत्तन कर रहे हैं। हजारों घर तक उनकी पहुंच है। ऐसे में सभी को एकजुट होकर चुनाव लड़ना चाहिए। दूसरे अन्य नेताओं ने भी कहा कि चुनाव सामने हैं। कार्यकर्ता, नेताओं का मनोबल बढ़ाने की जरूरत है न कि उन्हें कमजोर करने की। 

भास्कर : सीएम ने कहा आप हारने वाले कैंडिडेट, बाकलीवाल : टिकट के लिए योग्य हूं

इस वाकये से भले ही कांग्रेस में सरगर्मी हो, लेकिन बाकलीवाल ने चुप्पी साध रखी है। भास्कर ने पूछा कि आप जिन मुख्यमंत्री कमलनाथ केे समर्थक माने जाते हैं, उन्होंने ही आपको कमजोर आंका है। हारने वाला कैंडिडेेट बताया है। ऐसा क्यों? इस पर बाकलीवाल ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। हालांकि इतना जरूर कहा कि मैं भी लोकसभा चुनाव के टिकट के लिए योग्य हूं। पार्टी टिकट देगी तो चुनाव लडूंगा। 

यहां लड़ाई टिकट की है ही नहीं : प्रदेश कांग्रेस सचिव राजेश चौकसे ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष सर्वोपरि हैं। उनका सम्मान पूरी पार्टी का सम्मान होता है। टिकट अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी से तय होता है। टिकट की लड़ाई ही नहीं है। जो संदेश लोगों के बीच गया, वो ठीक नहीं है। 

हंसी की इस तस्वीर से निकले नाराजगी के सुर

यह तस्वीर मंगलवार को एयरपोर्ट की है, जहां दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस नेताओं से लोकसभा टिकट को लेकर चर्चा की थी। उन्होंने कुछ नाम बताए। बाद में बाकलीवाल से कहा- तुम चुनाव लड़ोगे? इतने में उनके मोबाइल पर मुख्यमंत्री कमलनाथ का कॉल आ गया। तब सिंह ने उनसे पूछा- इंदौर से विनय को चुनाव लड़वा दें? कमलनाथ बोले- जीतने वाला कैंडिडेट नहीं है। फिर दिग्विजयसिंह ने कहा था स्पीकर ऑन है। तब नाथ ने कहा कि अच्छा कैंडिडेट रहेगा।

Leave a Reply