ट्रिपल तलाक बिल के विरुद्ध ओवैसी ने दिए ये तर्क

#newsyuva

ट्रिपल तलाक बिल के विरुद्ध ओवैसी ने दिए ये तर्क
गुरुवार को कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लोकसभा में ट्रिपल तलाक बिल पेश किया. उन्होंने बोला, ‘ये ऐतिहासिक दिन है. सुप्रीम कोर्ट ने एक साथ ट्रिपल तलाक को पाप बोला था. ये नारी की गरिमा एवं सम्मान का बिल है’. वहीं, AIMM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बोला कि ट्रिपल तलाक बिल संविधान के विरुद्ध है. यह महिलाओं के अधिकारों का हनन करता है.

ओवैसी ने अपने भाषण में इन बिंदुओं का भी जिक्र किया…

1. इस्लाम में तलाक-ए-बिद्दत तथा देश में घरेलू हिंसा के कानून पहले से ही लागू है. ऐसे में देश को नए कानून की क्या जरूरत है.
2. केंद्र सरकार ट्रिपल तलाक पर जो बिल ला रही है, वह सविंधान द्वारा दिए गए मूल अधिकारों का हनन करता है.

3. ट्रिपल तलाक पर सरकार का बिल कानून लचर है. इसमें कई ऐसे प्रावधान हैं, जो कानूनसंगत नहीं हैं.

4. संसद को सिर्फ इस आधार पर ट्रिपल तलाक पर कानून बनाने का अधिकार नहीं मिल जाता कि यहां मूल अधिकारों का हनन हो रहा है.

5. ट्रिपल तलाक पर कोई नया बिल या कानून लाने से पहले जनता के बीच इस मामले को लेकर बहस करानी चाहिए.

6. घरेलू हिंसा एक्ट 2005 महिलाओं को पहले ही संरक्षण दे रहा है. ऐसे में नए कानून की क्या जरूरत है.

 

Leave a Reply